अब Solar के बिज़नेस करने के लिए सरकार और बैंक दोनों करेंगे आपकी मदत

सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग बिज़नेस

सोलर पैनल की मांग में हाल ही के सालों में काफी ग्रोथ हुई है। ये इक्विपमेंट स्वच्छ और सुस्ताइनेब्ल एनर्जी प्रोवाइड करने के लिए जाने जाते हैं। सोलर पैनल का उपयोग करके सोलर एनर्जी के माध्यम से बिजली जनरेट की जा सकती है जिससे पर्यावरणीय प्रभाव और ग्रिड बिजली पर निर्भरता कम हो सकती है।

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कैसे आप भी अपना सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग का बिज़नेस खोल सकते हैं और करोड़ों कमा सकते है, वहीँ देश की प्रगति में भी कंट्रीब्यूट कर सकते हैं। सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग शुरू करने से न केवल फाइनेंसियल बेनिफिट मिलता है बल्कि देश की रिन्यूएबल एनर्जी कैपेसिटी को बढ़ाने में भी योगदान मिलता है।

ग्लोबल लेवल पर सोलर एनर्जी इंडस्ट्री 2022 में $3.3 बिलियन के वैल्यूएशन पर पहुँच थी थी जिसमें आने वाले सालों में तेजी से वृद्धि के संकेत हैं। 2030 तक भारत दुनिया भर में सोलर एनर्जी का लीडिंग एक्सपोर्टर बन सकता है। भारतीय सरकार कई सब्सिडी योजनाओं के माध्यम से नागरिकों को सोलर सिस्टम लगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। यह सहायता घर पर सोलर पैनल का मैन्युफैक्चरिंग शुरू करना संभव बनाती है जिसके लिए सरकार लोन की फैसिलिटी भी प्रोवाइड करती है।

सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग में प्राइनिशियल इन्वेस्टमेंट

अब सरकारी असिस्टेंस और लोन फैसिलिटी से खोलें अपना खुद का सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग बिज़नेस
Source: Council of Foreign Relations

जो लोग छोटे पैमाने पर सोलर निर्माण यूनिट शुरू करना चाहते हैं उनके लिए इनिशियल इन्वेस्टमेंट ₹50 लाख से ₹1 करोड़ तक है। बड़े पैमाने के बिज़नेस के लिए इन्वेस्टमेंट ₹5 करोड़ से लेकर ₹10 करोड़ तक हो सकता है। निवेश में रॉ मटेरियल खरीदना, एफ्फिसिएंट वर्कर को काम पर रखना, मशीनरी और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट सेटअप करना शामिल है। एंटरप्रेन्योर बैंकों के माध्यम से लोन प्राप्त कर सकते हैं और सरकारी सब्सिडी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं।

सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग के लिए लाइसेंस और परमिट

सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग बिज़नेस शुरू करने के लिए कई लाइसेंस और परमिट की आवश्यकता होती है जिनमें बिज़नेस रजिस्ट्रेशन, फैक्ट्री लाइसेंस, GST रजिस्ट्रेशन, एनवायर्नमेंटल क्लीयरेंस और MNRE से अप्रूवल, डायरेक्टरेट जनरल ऑफ़ फॉरेन ट्रेड एंड इंटरनेशनल ट्रेड से इम्पोर्ट कोड शामिल हैं।

सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग बिज़नेस कैसे सेटअप करें ?

रॉ मटेरिल, मशीनरी और ट्रांसपोर्टेशन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए 20,000 वर्ग मीटर एरिया में एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट इंस्टॉल की जा सकती है। आवश्यक रॉ मटेरियल में सिलिकॉन वेफ़र, एल्युमिनियम फ़्रेम, ग्लास, तार और बैक शीट शामिल हैं। मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस में एफिशिएंसी और एक्यूरेसी सुनिश्चित करने के लिए मेन मशीनरी में सोलर स्ट्रिंगर मशीन, सोलर सेल टेस्टिंग और कटिंग मशीन, लेमिनेटर और क्वालिटी इंस्पेक्शन इक्विपमेंट शामिल हैं।

अपने सोलर पैनल की ब्रांडिंग और मार्केटिंग

Solar-cell-manufacuring-plant
Source: LA Solar

बाजार में कई ब्रांड उपलब्ध होने के कारण मजबूत ब्रांडिंग और मार्केटिंग बहुत ज़रूरी है। अपने सोलर पैनल की मार्केटिंग करने के लिए कई कदम उठाए जा सकते हैं –

  • ऑनलाइन प्रजेंस के लिए वेबसाइट बनाना
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एडवेटीसमेंट देना
  • ऑनलाइन एडवेटीसमेंट देना
  • लोकल सोलर वेंडर से जुड़ना और प्रोडक्शन की विशेषताओं के बारे में बताना
  • व्यापार मेलों और एक्सहिबिशन में अपने पैनल को प्रमोट करना

यह भी देखिए: Solar Panel पर 65% तक की सब्सिडी पाएं और लाभ उठाएँ मुफ्त बिजली का

2 thoughts on “अब Solar के बिज़नेस करने के लिए सरकार और बैंक दोनों करेंगे आपकी मदत”

Leave a comment