एक 1 टन के AC को चलाने में कितना खर्च आता है? जानिए पूरी डिटेल

जानिए एक 1-टन के AC को चलाने में कितना खर्च आता है

बढ़ते बिजली बिलों से बचने और बिजली की कटौती की समस्या से बचने के लिए लोग अपने घरों में सोलर पैनल लगवाने का चलन बढ़ा रहे हैं। अब आप सोलर पैनल लगवाकर अपने घर का एयर कंडीशनर भी चला सकते हैं और गर्मी के दिनों में राहत पा सकते हैं। पहले लोग बिजली के बिल से बचने के लिए कई तरह के बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल करने से कतराते थे लेकिन अब वे बिजली के मामले में आत्मनिर्भर हो रहे हैं। इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कैसे आप भी अपने घर के एयर कंडीशनर को चला सकते हैं सोलर पैनलों की वजह से और एक 1 टन के एयर कंडीशनर को चलाने में कितना खर्चा आता है।

जिन जगहों पर बहुत ज़्यादा गर्मी पड़ती है वहां लोग एयर कंडीशनर का इस्तेमाल ज़्यादा करते हैं। एसी बहुत ज़्यादा बिजली की खपत करते हैं जिससे बिजली का बिल ज़्यादा आता है। अगर इन शहरों में बिजली कटौती होती है तो कूलिंग AC भी बंद हो जाता है जिससे लोगों को गर्मी में परेशान होना पड़ता है।

1-टन का AC चलाने में कितना खर्च आता है?

haier-to-launch-indias-first-solar-ac-key-details

अगर आप अपने घर में 1-टन एसी का इस्तेमाल करते हैं तो आपको बिजली के लिए प्रतिदिन ₹100 से ₹150 देने पड़ सकते हैं। इस साल गर्मी मार्च के अंत से शुरू होती है और लोग अप्रैल से एसी का उपयोग करना शुरू करते हैं। सितंबर तक भी काफी गर्मी जारी रहती है और लोग इस दौरान अपने एयर कंडीशनर चालू रखते हैं। गर्मी के दिनों में बिजली का बिल अधिक आता है जिसका कारण पंखे, कूलर और AC का उपयोग है।

गर्मियों में भारी बिजली बिल से बचने के लिए आप सोलर सिस्टम का उपयोग कर सकते हैं। इससे बिल की बचत होगी और बिजली कटौती की समस्या भी खत्म हो जाएगी। आप अपने घर में ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम, ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम या हाइब्रिड सोलर सिस्टम लगा सकते हैं जो बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं और आपको मदद कर सकते हैं मुफ्त बिजली पर अच्छी कूलिंग प्राप्त करने के लिए।

सोलर सिस्टम कैसे काम करते हैं

ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम को ग्रिड-टाईड सोलर सिस्टम के रूप में भी जाना जाता है, यह आपके नेट मीटर से जुड़ा होता है। यह घरों और बिज़नेस के लिए सबसे आम और ऑप्टीमल सोलर सिस्टम है। एक ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम को ऑपरेट करने के लिए आपको सोलर इन्वर्टर को सोलर बैटरी से जोड़ना होगा। यह सोलर एनर्जी का उपयोग करके बिजली जनरेट करता है जिसे बैटरी में स्टोर किया जाता है। जब बिजली चली जाती है तो इस स्टोर की गयी एनर्जी का उपयोग किया जाता है।

वहीँ एक हाइब्रिड सोलर सिस्टम आपके बिजली बिल को कम करता है और बिजली कटौती के दौरान बिजली प्रदान करता है। यह ग्रिड और सोलर पैनल दोनों से पावर ड्रा करता है। हाइब्रिड सोलर सिस्टम ऑफ-ग्रिड और ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम का कॉम्बिनेशन है जो बिजली के न होने पर भी आसानी से काम कर सकता है। अगर आपको एक वाटर पंप चलाना है तो आपको लगभग 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम की आवश्यकता होगी। वहीँ एक एयर कंडीशनर चलाने के लिए आपको आसानी से AC चलाने के लिए लगभग 5 किलोवाट के सोलर सिस्टम की आवश्यकता होगी।

इसकी कीमत कितनी होगी?

एक 1-टन के AC को चलाने में कितना खर्च आता है? जानिए पूरी डिटेल्स
Source: IndiaMart

5 किलोवाट का सोलर सिस्टम लगाने में आपको लगभग ₹5 लाख का खर्च आएगा। आप सोलर पैनल की कैपेसिटी कम करके अपनी कॉस्ट कम कर सकते हैं। इसके अलावा आप मंथली EMI पेमेंट ऑप्शन का लाभ उठा सकते हैं। इस सोलर सिस्टम से AC पूरे दिन चल सकता है। इसे लंबे समय तक इस्तेमाल करने के लिए आपको बस बैटरी की कैपेसिटी बढ़ाने की ज़रूरत है। सोलर पैनल लगाकर आप अपने बिजली के उपयोग को मैनेज कर सकते हैं, कॉस्ट को कम कर सकते हैं और गर्मियों के महीनों के दौरान निरंतर बिजली की सप्लाई को पॉसिबल कर सकते हैं।

यह भी देखिए: अब आप भी लगवा सकते हैं सबसे पावरफुल Solar इतनी किफायती कीमत पर, जानिए कितनी मिलेगी सब्सिडी

1 thought on “एक 1 टन के AC को चलाने में कितना खर्च आता है? जानिए पूरी डिटेल”

Leave a comment