अब आसानी से लगाएं अपने घर पर सबसे एफ्फिसिएंट सोलर सिस्टम, पूरी डिटेल्स जानिए

सबसे एफ्फिसिएंट सोलर सिस्टम

आज की दुनिया में ग्लोबल लेवल पर बढ़ती एनर्जी की डिमांड को पूरा करने के लिए सोलर एनर्जी का उपयोग तेजी से किया जा रहा है। अगर आपके घर में रोजाना 7-8 घंटे सूरज की रोशनी आती है तो आप भी सोलर सिस्टम लगाकर अपने बिजली के बिल को काफी हद तक कम कर सकते हैं या खत्म भी कर सकते हैं।

सोलर एनर्जी एक रिन्यूएबल एनर्जी सोर्स है और इसका इस्तेमाल रेजिडेंशियल बिल्डिंग, होटलों, कृषि सिंचाई और अन्य एप्लीकेशन में बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। सरकार भी सोलर एनर्जी के उपयोग को प्रोत्साहित और बढ़ावा दे रही है।अगर आप घर पर सोलर एनर्जी का लाभ उठाना चाहते हैं तो सोलर पैनल लगाने पर विचार करें। ये न केवल पर्यावरण के लिए फायदेमंद हैं बल्कि आपके बिजली बिल को भी काफी कम कर सकते हैं।

सोलर पैनल सिस्टम के टाइप जानिए

अब आसानी से लगाएं अपने घर पर सबसे एफ्फिसिएंट सोलर सिस्टम, पूरी डिटेल्स जानिए
Source: Waaree

सोलर एनर्जी का मैक्सिमम बेनिफिट उठाने के लिए अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सही प्रकार के सोलर पैनल का चयन करना महत्वपूर्ण है। ऑन-ग्रिड सोलर पैनल सिस्टम में पैनल सीधे पावर ग्रिड से जुड़े होते हैं। ये नेट मीटरिंग के ज़रिए बिजली बिल कम करने में मदद करते हैं। यह सिस्टम अच्छी पावर अवेलेबिलिटी और मिनिमम पावर कट वाले इलाकों के लिए सबसे बढ़िया सिस्टम है।

ऑफ-ग्रिड सोलर पैनल सिस्टम में पैनलों को बैटरी और इनवर्टर की आवश्यकता होती है। ये अक्सर पावर कट वाले इलाकों के लिए सूटेबल है। यह सिस्टम बिजली न होने पर भी आपको स्टोर एनर्जी का उपयोग कर सकते हैं। हाइब्रिड सोलर सिस्टम में नेट मीटरिंग को बैटरी बैकअप के साथ कंबाइन किया जाता है। बिजली की कमी के दौरान भी निरंतर एनर्जी सप्लाई ऑफर किया जाता है। यह सिस्टम ग्रिड कनेक्शन और बैटरी स्टोरेज के दोहरे लाभों के कारण हाई डिमांड में रहता है।

सोलर सिस्टम के कॉम्पोनेन्ट और इंस्टालेशन कॉस्ट

सोलर पैनल सूर्य के प्रकाश को बिजली में कन्वर्ट करते हैं। इन्वर्टर सोलर पैनल द्वारा जनरेट की गई DC पावर को डोमेस्टिक उपयोग के लिए AC पावर में कन्वर्ट करता है। बैटरी रात या बिजली की कटौती के दौरान उपयोग के लिए एक्स्ट्रा पावर स्टोर करती है।

लाइट, पंखे, टीवी, फ्रिज और मोटर चलाने के लिए आपको प्रतिदिन लगभग 6 से 7 यूनिट बिजली की आवश्यकता होगी। ऐसी आवश्यकताओं के लिए 1.5 से 2 किलोवाट का सोलर सिस्टम सबसे अच्छा है। वहीँ 1500 से 1800 वाट की डेली खपत के लिए आपको कम से कम 2500 वाट का इन्वर्टर चाहिए। पूरा सोलर सिस्टम लगाने में लगभग ₹70,000 से ₹80,000 का खर्च आता है।

सोलर सिस्टम कैसे लगाएं ?

1kw-solar-system-installation-cost-and-subsidy
Source: GoGreen Solar

घर पर सोलर सिस्टम लगाना पहले से कहीं ज़्यादा आसान हो गया है। सही चरणों का पालन करके आप इसे स्वयं कर सकते हैं और बिजली के बिलों में बचत कर सकते हैं।

सबसे सोलर पैनल को हवा और तूफ़ान से बचाने के लिए उन्हें मज़बूत फ्रेम में सुरक्षित रखें। इसके बाद सोलर पैनल, इन्वर्टर और बैटरी को जोड़ने के लिए 6 मिमी या 10 मिमी के तारों का उपयोग करें। फिर पावर लॉस को रोकने के लिए तार की लंबाई 10-12 मीटर तक रखें। तारों को सुरक्षित रखने के लिए इलेक्ट्रिकल फिटिंग पाइप का उपयोग करें। इसके बाद कनेक्टर का उपयोग करके सोलर पैनल से तारों को कनेक्ट करें। फिर तारों को बैटरी से कनेक्ट करें। अंत में, इन्वर्टर को बैटरी से और फिर अपने घर के इलेक्ट्रिकल बोर्ड से कनेक्ट करें।

यह भी देखिए: अब लगवाएं Tata का सबसे एडवांस 3kW का Solar सिस्टम, जानिए सब्सिडी के बाद की कीमत